सिम्स के लेबर ओटी में शार्ट सर्किट से फैला धुआं


सिम्स अस्पताल के प्रथम तल स्थित लेबर ओटी में गुरुवार की शाम 5 बजे शार्ट सर्किट होने से हड़कंप मच गया । एकाएक शार्ट सर्किट होने से ओटी व आसपास धुंआ फैल गया । इस दौरान ड्यूटी कर रहे कर्मचारी इधर उधर भागने लगे । कुछ देर बाद जल रहे वायर को बुझा लिया गया ।

इस दौरान एक घंटे तक बिजली बंद रही । गुरुवार की शाम 5 बजे सिम्स के लेबर ओटी में सभी कर्मचारी अपना काम कर रहे थे , इसी समय अचानक शार्ट सर्किट से वायर जलने लगे , वायर से चिंगारी निकलते देख लेबर ओटी में कार्यरत कर्मचारी इधर उधर भागने लगे , इसी समय फ्यूज उड़ने से बिजली बंद हो गई और ओटी व आसपास धुंआ पर गया । आधे घंटे तक ओटी धुंआ भरा रहा । 

कुछ देर बाद बिजली कर्मचारियों ने मौके पर पहुंचकर वायर में लगी आग को बुझा दिया । शार्ट सर्किट से कोई हादसा नहीं हुआ , लेकिन एक घंटे तक बिजली बंद रही , जिससे मरीज और कर्मचारी हलाकान होते रहे । 

10 महीने पहले हुई थी घटना 

सिम्स के रेडियोलाजी विभाग के पास 10 महीने पहले 22 जनवरी को इलेकट्रिक पैनल बोर्ड में आग लगने से हड़कंप मचा था । इस दौरान प्रथम तल के एनआईसीयू में आग के कारण धुंआ भर गया था । आग तेज होने व धुंआ का गुबार एनआईसीयू तक पहुंचा था । इस दौरान एनआईसीयू में भर्ती गंभीर नवजात को सुरक्षित करने बाहर निकाल गया था । इन गंभीर नवजातों को शहर के अन्य अस्तपाल में भर्ती किया गया था । 

6 डाक्टरों का किया गया था तबादला 

सिम्स में 22 जनवरी को हुई आठा की घटना के बाद मेडिकल कालेज के 6 डाक्टरों पर गाज गिरी थी । इन डाक्टरों का तबादला अंबिकापुर व जगदलपुर कर दिया गया है । सिम्स अस्पताल की व्यवस्था जस की तस बनी हुई है । अफसर अब भी बड़ी घटना का इंतजार कर रहे हैं , जबकि पीडब्ल्यूडी को अस्पताल की व्यवस्था सुधारने शासन द्वारा निर्देश दिया गया है । 

लिफ्ट में फंसे परिजन 

लेबर ओटी में शार्ट सर्किट के कारण गायनिक वार्ड के ओपीडी में बिजली गुल हो गई । इसके साथ ही गायनिक वार्ड तक पहुंचने वाली लिफ्ट भी बंद हो गई । इस दौरान कुछ लोग दूसरी मंजिल में जाने के लिए लिफ्ट में सवार थे । अचानक बिजली गुल होने पर परिजन लिफ्ट में फंस गए । शोर सुनकर सिम्स के कर्मचारी ने लिफ्ट का दरवाजा खोलने का प्रयास किया , पर बिजली नहीं होने से दरवाजा नहीं खुला , कुछ देर बात दरवाजा खुलने पर सभी ने राहत की सांस ली ।

Comments